Sunday, July 21, 2024
Homeबिहारनीतीश कैबिनेट में आरजेडी से मंत्री सुरेंद्र यादव फंसे, जेडीयू की महिला...

नीतीश कैबिनेट में आरजेडी से मंत्री सुरेंद्र यादव फंसे, जेडीयू की महिला नेता ने किया केस; जानें पूरा मामला

नीतीश कैबिनेट में आरजेडी कोटे से सहकारिता मंत्री सुरेंद्र यादव की मुश्किलें बढ़ गई हैं। एक महिला पर अभद्र टिप्पणी करने के मामले में उनके खिलाफ मानहानि का मुकदमा दर्ज हुआ है। गया कोर्ट के निर्देश के बाद फतेहपुर पुलिस थाने में मंत्री सुरेंद्र यादव के खिलाफ आईपीसी की धारा 500 और 509 के तहत केस दर्ज हुआ है। जेडीयू नेता एवं गया जिला परिषद सदस्य ने मंत्री के खिलाफ शिकायत की थी। गया के एसएससपी आशीष भारती ने इसकी पुष्टि की है।

एसएसपी ने कहा कि मंत्री सुरेंद्र यादव के खिलाफ जिला पार्षद करिश्मा कुमारी ने अदालत में शिकायत की थी। अदालत के निर्देश पर पुलिस ने मानहानि का मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस अब करिश्मा से बयान और सबूत लेकर आगे की कार्रवाई करेगी।

क्या है पूरा मामला?

शिकायत के मुताबिक करिश्मा ने सहकारिता मंत्री सह बेलागंज विधायक सुरेंद्र यादव पर आरोप लगाए हैं कि उन्होंने 4 मई 2023 को एक स्कूल में आयोजित कार्यक्रम के अंदर महिलाओं पर अभद्र टिप्पणी की थी। करिश्मा का कहना है कि उन्होंने 20 जून को फतेहपुर पुलिस थाने में लिखित शिकायत और वीडियो फुटेज जमा कराया था, लेकिन केस दर्ज नहीं हुआ। सिर्फ स्टेशन डायरी ही रजिस्टर्ड हुई। इसके बाद उन्होंने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया।

करिश्मा जेडीयू महिला विंग की राज्य सचिव हैं। उन्होंने कहा कि फतेहपुर थाना पुलिस ने मंत्री के खिलाफ बुधवार को एफआईआर दर्ज की। उन्होंने 22 जून को गया के डीएम मुलाकात कर उन्हें भी एप्लीकेशन दी थी, मगर उनके द्वारा भी कोई कानूनी कार्रवाई नहीं की गई। इससे पहले वह राष्ट्रीय महिला आयोग में शिकायत कर चुकी हैं।

करिश्मा कुमारी ने बताया कि मंत्री सुरेंद्र यादव ने कहा था कि चुनाव के समय दिल्ली से एक मैडम गया आईं और सीट जीतकर वापस लौट गईं। चुनाव प्रचार के दौरान युवक उसके फोटो लेते और रात में उन्हें किस करते थे।

मंत्री का विवादों से पुराना नाता

सुरेंद्र यादव सात बार विधायक और जहानाबाद से सांसद रह चुके हैं। विवादों से उनका पुराना नाता है। पिछले साल जून महीने में पॉक्सो कोर्ट में उनके खिलाफ चार्जशीट दाखिल हुई थी, उनपर गैंगरेप की नाबालिग पीड़िता की पहचान उजागर करने के आरोप लगे। इस साल 24 फरवरी को अग्निवीर योजना पर विवादित टिप्पणी करते हुए अग्निवीरों को हिजड़ों की फौज करार दिया था।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Latest News