Sunday, July 21, 2024
Homeधर्मDev Uthani Ekadashi 2023: 22 या 23 नवंबर कब है देवउठनी एकादशी?...

Dev Uthani Ekadashi 2023: 22 या 23 नवंबर कब है देवउठनी एकादशी? डेट में है कन्फ्यूजन, तो यहां नोट करें सही दिन

Dev Uthani Ekadashi 2023: हिंदू धर्म में भगवान विष्णु को जगत पालक कहा गया है। सृष्टि का सारा संचालन इन्हीं के बस में रहता है। इसलिए इनकी पूजा करने से जीवन हर तरह की सुख-सुविधाओं से संपन्न रहता है। वैसे कार्तिक मास पूर्ण रूप से भगवान विष्णु को ही समर्पित होता है। श्री हरि की उपासना के लिए इससे उत्तम महीना हिंदू धर्म के अनुसार दूसरा कोई भी नहीं है। भगवान विष्णु को तो कार्तिक का पूरा महीना ही समर्पित होता है।

परंतु इनका सबसे प्रिय दिन एकादशी का ही होता है जी, हां शास्त्रों के अनुसार भगवान विष्णु को एकादशी के दिन से ज्यादा और कुछ भी प्रिय नहीं है। इसलिए कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि और भी महत्वपूर्ण बन जाती है। धार्मिक ग्रंथों के अनुसार भगवान विष्णु चार महीने बाद कार्तिक मास की इस एकादशी तिथि के दिन अपनी योगनिद्र से उठते हैं। इसलिए इसे देवउठनी एकादशी कहा जाता है। इसका अर्थ होता है देवताओं का जागृत होना। तो आइए जानते हैं इस बार यह। देवउठनी एकादशी कब मनाई जाएगी और इसका व्रत किस दिन रखा जाएगा।

देवउठनी  एकादशी का मुहूर्त

  • देवउठनी  एकादशी का व्रत – 23 नवंबर 2023 दिन गुरुवार
  • एकादशी तिथि प्रारंभ – 22 नवंबर 2023 रात 11 बजकर 3 मिनट से।
  • एकादशी तिथि समापन – 23 नवंबर 2023 रात 9 बजकर 1 मिनट पर।
  • व्रत पारण का समय – 24 नवंबर 2023 दिन शुक्रवार सुबह 6 बजकर 51 मिनट से सुबह के 8 बजकर 57 मिनट तक इस बीच कभी भी व्रत को खोला जा सकता है।

कब मनाएं देवउठनी  एकादशी

कार्तिक मास की देवउठनी एकादशी की तारीख को लेकर यदि आप संदेह में हैं तो हिंदू वैदिक पंचांग के अनुसार इस बार। देवउठनी एकादशी का व्रत 23 नवंबर 2023 दिन गुरुवार को रखा जाएगा। इस बार कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि 22 नवंबर 2023 दिन बुधवार को रात के समय 11 बजकर 3 मिनट पर शुरू होगी और 23 नवंबर 2023 दिन गुरवार को रात 9 बजकर 1 मिनट तक रहेगी। हिंदू धर्म में कोई भी शुभ कार्य, उपवास या पूजा-पाठ को उदया तिथि में करना सबसे शुभ माना जाता है और इसे अधिक महत्व भी दिया जाता है। यही कारण है कि देवउठनी एकादशी के व्रत का संकल्प 23 नंवबर 2023 दिन गुरुवार को लेने के बाद इस दिन भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की विधिपूर्वक पूजा की जाएगी और एकादशी के अगले दिन व्रत का पारण किया जाएगा जो कि 24 नवंबर 2023 दिन शुक्रवार का है।

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं। इसका कोई भी वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है। topbihar.com एक भी बात की सत्यता का प्रमाण नहीं देता है।)

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Latest News