Sunday, July 21, 2024
Homeधर्मDiwali 2023: दीवाली पर 13 दियों को जलाने के पीछे है धार्मिक...

Diwali 2023: दीवाली पर 13 दियों को जलाने के पीछे है धार्मिक कारण, यहां जानिए क्या हैं इनका महत्व

Diwali 2023: हिंदुओं के प्रमुख त्योहारों में से एक है दीवाली. इसकी रौनक पूरे देश में ही देखते बनती है. इसे रोशनी का त्योहार भी कहा जाता है. यह त्योहार अंधेरे में प्रकाश की जीत का उल्लेख करता है. इस दिन भगवान राम अयोध्या वापस आए है और इसी खुशी में पूरी अयोध्या की दियों से प्रजव्लित किया गया था. इसलिए यह भारतीयों के लिए बेहद खास है. इस दिन घरों में माता लक्ष्मी की पूजा होती है. उनसे घर की सुख समृद्धि का आर्शीवाद मांगा जाता है. ऐसा माना जाता है कि इस दिन मां लक्ष्मी घर पर आती हैं, इसलिए घर के किसी भी कोने में अंधेरा नहीं होना चाहिए.

दीवाली के पर्व पर लोग पूरे घरों में दिए जलाते हैं. दीये जलाना हिंदू धर्म में बेहद शुभ माना जाता है. ऐसा माना जाता है कि इससे घर की नकारात्मकता दूर होती है. इस दिन 13 दिए जलाकर घर के हर कोने में रखे जाते हैं. तो आइए जानते हैं 13 दियों को जलाने के पीछे की क्या वजह है.

दीवाली पर 13 दिए जलाने का महत्व और मान्यता

आइए जानते है हर दिए के धार्मिक महत्व के बारे में-

  • ऐसी मान्यता है कि पहले दिये को जलाने से परिवार की अकाल मृत्यु से सुरक्षा होती है.धनतेरस वाले दिन कूड़ेदान के पास इन 13 पुराने दियों को दक्षिण दिशा की ओर जलाना चाहिए.
  • दीवाली की रात को दूसरा दिया घर के मंदिर पर जलाया जाता है. ऐसी मान्यता है कि ऐसा करने से सौभाग्य की प्राप्ति होती है.
  • तीसरा दिया माता लक्ष्मी के सामने रखा जाता है. इसको लेकर ऐसी मान्यता है कि ऐसा करने से माता लक्ष्मी से धन, समृद्धि और सफलता का आर्शीवाद दिया जाता है.
  • चौथा दिया मां तुलसी के पास रखा जाता है. ऐसी मान्यता है कि ऐसा करने से घर में शांति बनी रहती है.
  • पांचवे दिये को घर के दरवाजे पर रखा जाता है. ऐसी मान्यता है कि ऐसा करने से घर की नकारात्मकता को दूर करता है और खुशियां आती हैं.
  • छठा दिया पीपल के पेड़ के नीचे रखा जाता है. ऐसी मान्यता है कि यह धन संबंधी और स्वास्थय संबंधी समस्याओं को दूर करने में लाभदायी होता है.
  • सातवां दिया किसी मंदिर में जलाकर रखा जाता है.

Dhanteras 2023: धनतेरस पर बर्तन और झाड़ू के अलावा क्या-क्या खरीदना माना जाता है शुभ?

  • आठवां दिया घर के कूड़ेदान के पास जलाया जाता है. ऐसी मान्यता है कि ये नकारात्मकता और बुरी आत्माओं से घर को बचाने में मदद करता है.
  • नवां दीया घर के शौचालय के पास जलाया जाता है. यह घर नें सकारात्मकता लाने में मदद करता है.
  • दसवें दिए को घर की छत पर जलाया जाता है. यह घर की नकारात्मक ऊर्जा से रक्षा करता है.
  • ग्यारहवां दिया घर की खिड़की के पास जलाया जाता है. ऐसी मान्यता है कि यह बुरी ऊर्जा को दूर करने में मदद करता है.
  • बारहवां दिया घर की सबसे ऊपरी मंजिल पर जलाया जाता है. यह घर वालों के स्वास्थय के लिए लाभदायी माना जाता है.
  • तेरहवां दिया घर के चौराहे पर रखा जाता है. ऐसी मान्यता है कि यह घर में अच्छी ऊर्जा का संचार करने में मदद करता है.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. topbihar.com इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

 

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Latest News