Tuesday, July 23, 2024
Homeधर्मShardiya Navratri 2023: शारदीय नवरात्रि कब से शुरू हैं? जानिए कलश स्थापना...

Shardiya Navratri 2023: शारदीय नवरात्रि कब से शुरू हैं? जानिए कलश स्थापना और पूजन का शुभ मुहूर्त

Sharad Navratri 2023: शरद नवरात्रि का त्यौहार नजदीक है और इसको लेकर तैयारियां शुरू हो गई हैं और लोगों के बीच उत्साह देखते ही बन रहा है. यह नौ दिवसीय त्योहार पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, गुजरात और महाराष्ट्र समेत कई क्षेत्रों में बहुत उत्साह के साथ मनाया जाता है. बंगाल, बिहार और उड़ीसा के पूर्वी हिस्सों में, दुर्गा पूजा को सेलीब्रेट किया जाता है.  इस त्योहार के दौरान, जिसे शारदीय नवरात्रि या महा नवरात्रि के रूप में भी जाना जाता है, भक्त देवी दुर्गा और उनके नौ अवतारों को पूजा-अर्चना करते हैं. दसवें दिन को ‘दशमी’ के रूप में मनाया जाता है. बता दें कि साल में चार नवरात्रि होती हैं, लेकिन चैत्र नवरात्रि और शरद नवरात्रि सबसे ज्यादा धूमधाम से मनाई जाती है.

शरद नवरात्रि 2023 तिथि और शुभ मुहूर्त ( Sharad Navratri 2023 Tithi & Shubh Muhurat)

DrikPanchang.com के अनुसार, इस साल, शरद नवरात्रि 15 अक्टूबर, 2023 को शुरू होने वाली है और 24 अक्टूबर, 2023 को दशमी के साथ समाप्त होगी.

कलश स्थापना 15 अक्टूबर, 2023 को सुबह 11:44 बजे से शुरू होगी और दोपहर 12:30 बजे तक का शुभ मुहूर्त है.

शरद नवरात्रि 2023: महत्व और अनुष्ठान (Sharad Navratri 2023: Significance And Rituals)

शरद नवरात्रि का आध्यात्मिक महत्व है, क्योंकि ऐसा माना जाता है कि इन पहले नौ दिनों के दौरान, देवी दुर्गा अपने भक्तों के साथ रहने के लिए पृथ्वी पर आती हैं. कई भक्तजन इस दौरान मांसाहारी भोजन और शराब का सेवन करने से बचते हैं. कुछ भक्त इन नौ दिनों में व्रत भी रखते हैं जिसमें सात्विक भोजन खाया जाता है. 

नवरात्रि के व्रत में क्या खाएं (What To Eat During Navratri Fasting?)

नवरात्रि के व्रत में अनाज और मांसाहारी भोजन से परहेज किया जाता है, लेकिन आपके पास इसके अलावा खाने के कई ऑप्शन मौजूद होते हैं. जिसमें कई सब्जियां, फल, डेयरी प्रोडक्ट्स और मिठाइयाँ शामिल हैं. वहीं आप साबुदाना, मखाने जैसी चीजों का सेवन भी कर सकते हैं. आप फलाहारी खाने को शामिल कर सकते हैं. यह व्रत में खाए जाने के  लिए अनुकूल ंमाना जाता है.

नवरात्रि व्रत में फास्टिंग डाइट (How To Plan Your Fasting Diet)

नियमित आटे के बजाय, कुट्टू का आटा, सिंघाड़े का आटा , और राजगिरा का आटा खा सकते हैं. वहीं नॉर्मल चावल की जगह पर आप समक के चावल और साबूदाना और मखाने को शामिल कर सकते हैं. 

सेंधा नमक:

व्रत में सफेद नमक की जगह सेंधा नमक को खाया जाता है. कई लोग इस दौरान नमक का सेवन नहीं करते हैं. लेकिन अगर आप नमक खाना चाहते हैं तो सेंधा नमक व्रत में खाने के लिए उपयुक्त माना गया है. 

कौन सा तेल:

व्रत के दौरान रिफाइंड और सरसों के तेल से परहेज किया जाता है. व्रत में आप खाना बनाने के लिए देसी घी और मूंगफली के तेल को शामिल कर सकते हैं. 

प्याज, लहसुन और दाल से परहेज:

व्रत के दौरान प्याज, लहसुन, चावल, दाल और सूजी जैसी चीजों को खाने से परहेज किया जाता है.

(अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. topbihar.com इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.)

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Latest News