Home » National » बिहार पुलिस में होंगी एक लाख भर्तियां, सीएम नीतीश कुमार के प्‍लान से बेरोजगार युवाओं में जगी आस

बिहार पुलिस में होंगी एक लाख भर्तियां, सीएम नीतीश कुमार के प्‍लान से बेरोजगार युवाओं में जगी आस

by Top Bihar
0 comment

DESK: बिहार पुलिस में नौकरियों का बड़ा अवसर आने वाला है। राज्‍य के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने सभी रिक्‍त पदों पर बहाली सुन‍िश्‍च‍ित करने के साथ ही आबादी के लिहाज से नए पद स्‍वीकृत करने का न‍िर्देश अधिकारियों को दिया है। अगर सरकार इस निर्देश पर अमल करती है तो राज्‍य में पहले से स्‍वीकृत पदों को भरने के लिए ही 40 हजार के करीब नई भर्तियों की आवश्‍यकता पड़ेगी। ये भर्तियां अगले कुछ सालों में रिक्‍त होने वाले पदों और पहले से रिक्‍त पदों के लिए होंगी। इसके साथ ही मौजूदा आबादी के लिहाज से नए पदों को सृजित करने पर एक से डेढ़ लाख भर्तियों की आवश्‍यकता पुलिस को पड़ेगी। 

सीएम ने प्रति लाख आबादी पर 150-160 पुलिस की जताई जरूरत 

मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि प्रति एक लाख की आबादी पर 150 से 160 पुलिस बल की उपलब्‍धता को ध्‍यान में रखकर अधिकारी आगे की योजना बनाएं। आपको बता दें कि बिहार की आबादी 2011 की जनगणना के मुताबिक करीब 10 करोड़ 40 लाख 99 हजार 452 है। 2021 की जनगणना अभी तक पूरी ही नहीं हुई है। 2022 के लिए बिहार की संभावित आबादी का अनुमान औसत वृद्धि दर के ल‍िहाज से करीब 12 करोड़ होने का अनुमान लगाया जाता है। 

बीपीआरडी के मुताबिक राज्‍य में फिलहाल इतना पुलिस बल 

केंद्रीय गृह मंत्रालय की एजेंसी ब्‍यूरो आफ पुलिस र‍िसर्च एंड डेवलपमेंट (BPRD) की वेबसाइट पर उपलब्‍ध जानकारी के मुताबिक बिहार में जिला पुलिस बल और राज्‍य सशस्‍त्र पुलिस को मिलाकर एक जनवरी 2009 को 85 हजार 531 स्‍वीकृत पदों पर 59 हजार 999 पुलिस बल कार्यरत था। हालांकि प‍िछले कुछ वर्षों में बिहार में पुलिस के अंतर्गत काफी भर्तियां हुई हैं। 

घोषणा पर अमल होने में लगेगा वक्‍त  

मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश पर शत प्रत‍िशत अमल होने में वक्‍त लगना तय है। इसके लिए सरकार को नए सिरे से जरूरत का आकलन करना होगा। साथ ही नई भर्तियों के लिए वेतन और अन्‍य खर्चों का इंतजाम भी करना होगा। इस प्‍लान पर आगे बढ़ने के बाद बिहार पुलिस में मानव बल की उपलब्‍धता दोगुनी से अधिक हो जाएगी। इसके अनुरूप ही वेतन का खर्च भी बढ़ेगा। 

बिहार में पिछले 16 साल के दौरान पुलिस विभाग में खूब नई भर्तियां हुई हैं। नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्‍यूरो (एनसीआरबी) की एक रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2010 में बिहार में प्रति लाख आबादी पर पुलिस की उपलब्‍धता केवल 65.7 ही थी। बिहार में नीतीश कुमार की सरकार बनने के बाद पुलिस विभाग में महिलाओं को सर्वाधिक मौका मिला। 2020 में तत्‍कालीन डीजीपी गुप्‍तेश्‍वर पांडेय ने दावा किया था बिहार में महिला पुलिस की हिस्‍सेदारी पूरे देश में सर्वाधिक है। 

डेढ़ लाख से अधिक पुलिस की होगी आवश्‍यकता 

नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्‍यूरो की ओर से वर्ष 2021 के लिए जारी रिपोर्ट में बताया गया है कि बिहार में 54,196 सामान्‍य पुलिस बल और 13,350 सशस्‍त्र पुलिस बल को मिलाकर कुल 67,546 पुलिस बल उपलब्‍ध था। इस रिपोर्ट में बताया गया है कि 2021 के मध्‍य के लिए बिहार की संभावित आबादी 10,38,04,000 थी। अगर इतनी आबादी के लिए 150 प्रति लाख के अनुपात में पद सृजित किए जाएं तो कुल एक लाख 55 हजार 706 पुलिस बल की जरूरत होगी। इसी तरह 160 प्रति लाख के अनुपात में एक लाख 66 हजार से अधिक पुल‍िस बल की जरूरत होगी। 

इनपुट- जागरण 

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

You may also like

Leave a Comment