चंद्रयान-3 : भारत का तीसरा चंद्रमा मिशन सुचारु रूप से बढ़ रहा आगे, उलटी गिनती शुरू (लीड-1)

by Top Bihar
0 comment

चेन्नई:   भारत के चंद्रमा पर तीसरे मिशन-चंद्रयान-3 के 14 जुलाई की दोपहर प्रक्षेपण के लिए उलटी गिनती सुचारु रूप से चल रही है और रॉकेट के निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार उड़ान भरने के लिए मौसम का पूर्वानुमान अच्छा है। भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर आईएएनएस को बताया, “उल्टी गिनती सुचारु रूप से चल रही है। 48 घंटे का मौसम पूर्वानुमान भी अच्छा है। रॉकेट सिस्टम की जांच की जा रही है। रॉकेट के शुक्रवार को निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार दोपहर 2.35 बजे उड़ान भरने की उम्मीद है।“

उन्‍होंने कहा कि गुरुवार को दोपहर 1.05 बजे उल्टी गिनती शुरू हुई। इस दौरान अंतिम मिनट की जांच की जाएगी, तरल और क्रायोजेनिक चरणों को ईंधन दिया जाएगा।

चंद्रयान-3 यान को भारत का 642 टन भारी लिफ्ट रॉकेट एलवीएम3 अंतरिक्ष में ले जाएगा।

जबकि पहले रॉकेट का पहला चरण ठोस ईंधन द्वारा संचालित होता है, दूसरा चरण तरल ईंधन द्वारा संचालित होता है, और तीसरे और अंतिम चरण में तरल हाइड्रोजन और तरल ऑक्सीजन द्वारा संचालित क्रायोजेनिक इंजन होता है।

विस्फोट के समय 642 टन के रॉकेट का कुल प्रणोदक द्रव्यमान तीनों चरणों को मिलाकर 553.4 टन होगा। उड़ान से ठीक 16 मिनट पहले या लगभग 2.50 बजे रॉकेट लगभग 179 किमी की ऊंचाई पर चंद्रयान-3 को खुद से जुदा कर देगा। इसके बाद चंद्रयान-3 लगभग 3.84 लाख किमी की अपनी लंबी चंद्रमा यात्रा शुरू करेगा।

अंतरिक्ष यान द्वारा ले जाए गए लैंडर के 23 या 24 अगस्त को चंद्रमा पर सॉफ्ट लैंडिंग करने की उम्मीद है।

इसरो ने कहा कि चंद्रयान-3 अंतरिक्ष यान में एक प्रोपल्शन मॉड्यूल (वजन 2,148 किलोग्राम), एक लैंडर (1,723.89 किलोग्राम) और एक रोवर (26 किलोग्राम) शामिल है।

पहले के चंद्र अभियानों पर गौर करें तो चंद्रयान-2 पेलोड का वजन लगभग 3.8 टन था, ऑर्बिटर का वजन 2,379 किलोग्राम था, विक्रम लैंडर का वजन 1,444 किलोग्राम था, जिसमें प्रज्ञान रोवर का वजन 27 किलोग्राम था।

चंद्रयान-3 का मुख्य उद्देश्य लैंडर को चंद्रमा की धरती पर सुरक्षित उतारना है। उसके बाद रोवर प्रयोग करने के लिए बाहर निकलेगा।

लैंडर से बाहर निकलने के बाद प्रोपल्शन मॉड्यूल द्वारा ले जाए गए पेलोड का जीवन तीन से छह महीने के बीच है। दूसरी ओर, इसरो ने कहा कि लैंडर और रोवर का मिशन जीवन 1 चंद्र दिवस या 14 पृथ्वी दिवस है।

लैंडर पेलोड हैं : तापीय चालकता और तापमान को मापने के लिए चंद्रा का सतह थर्मोफिजिकल प्रयोग), लैंडिंग स्थल के आसपास भूकंपीयता को मापने के लिए चंद्र भूकंपीय गतिविधि उपकरण (आईएलएसए), प्लाज्मा घनत्व और इसकी विविधताओं का अनुमान लगाने के लिए लैंगमुइर जांच (एलपी)।

नासा के एक निष्क्रिय लेजर रेट्रोरिफ्लेक्टर ऐरे को चंद्र लेजर रेंजिंग अध्ययन के लिए समायोजित किया गया है।

इसरो ने कहा, रोवर लैंडिंग स्थल के आसपास के क्षेत्र में मौलिक संरचना प्राप्त करने के लिए अल्फा पार्टिकल एक्स-रे स्पेक्ट्रोमीटर (एपीएक्सएस) और लेजर प्रेरित ब्रेकडाउन स्पेक्ट्रोस्कोप (एलआईबीएस) ले जाएगा।

भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा, चंद्रमा मिशन को तीन चरणों में बांटा गया है – पृथ्वी केंद्रित चरण (प्री-लॉन्च, लॉन्च और एसेंट और पृथ्वी-बाउंड पैंतरेबाज़ी), चंद्र स्थानांतरण चरण (स्थानांतरण प्रक्षेपवक्र), और चंद्रमा केंद्रित चरण (चंद्र) कक्षा सम्मिलन चरण, चंद्रमा-बाध्य पैंतरेबाज़ी चरण, प्रणोदन मॉड्यूल और चंद्र मॉड्यूल पृथक्करण, डी-बूस्ट चरण, प्री-लैंडिंग चरण, लैंडिंग चरण, लैंडर और रोवर के लिए सामान्य चरण, प्रणोदन के लिए चंद्रमा केंद्रित सामान्य कक्षा चरण (100 किमी गोलाकार कक्षा) मापांक)।

पहले चरण के दौरान भारत का भारी लिफ्ट रॉकेट 43.5 मीटर ऊंचा और 642 टन वजनी एलवीएम3, अंतरिक्ष यान को चंद्रयान-3 को चंद्रमा की कक्षा में ले जाएगा। रॉकेट के पास लगातार छह सफल मिशनों का त्रुटिहीन रिकॉर्ड है। यह एलवीएम3 की चौथी परिचालन उड़ान है, और इसका उद्देश्य चंद्रयान -3 अंतरिक्ष यान को जियो ट्रांसफर ऑर्बिट (जीटीओ) में लॉन्च करना है।

शुक्रवार का चंद्रमा मिशन 2019 में असफल चंद्रयान -2 मिशन का अनुवर्ती है, जब विक्रम नाम का लैंडर चंद्रमा की सतह पर दुर्घटनाग्रस्त हो गया था।

चंद्रयान-2 मिशन के दौरान चंद्रमा पर दुर्घटनाग्रस्त हुए लैंडर की तुलना में इस बार लैंडर में किए गए बदलावों के संबंध में, इसरो के एक वरिष्ठ अधिकारी ने आईएएनएस को बताया कि लैंडर में पांच के बजाय चार मोटर हैं।

अंतरिक्ष एजेंसी ने सॉफ्टवेयर में कुछ बदलाव भी किए हैं।

दिलचस्प बात यह है कि इसरो इस बार लैंडर और रोवर के नामकरण पर चुप है।

चंद्रयान-2 मिशन के दौरान लैंडर का नाम विक्रम और रोवर का नाम प्रज्ञान रखा गया था। मिशन के तीन प्रमुख अधिकारी हैं : मिशन निदेशक मोहन कुमार, वाहन/रॉकेट निदेशक बीजू सी. थॉमस और अंतरिक्ष यान निदेशक डॉ. पी. वीरमुथुवेल।

(वेंकटचारी जगन्नाथन से v.jagannathan@ian.in पर संपर्क किया जा सकता है)

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

You may also like