Refund Scam: अगर आपको भी मिला है इस तरह का कोई मेसेज तो हो जाएं सावधान, वर्ना… हो जाएंगे ठगी के शिकार

By Top Bihar

Published on:

Follow Us
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Income Tax Refund Message Scam: अगर किसी को यह मेसेज (Message) मिलता है कि आपका इनकम टैक्स रिफंड (Refund) (ITR) आपके अकाउंट में ट्रांसफर कर दिया गया है, तो यह किसी टैक्सपेयर के लिए राहत और संतुष्टि देने वाला मेसेज (Message) हो सकता है. लेकिन, जिस तरह से साइबर क्राइम (Cyber Crime) करने वालों की संख्या बढ़ रही है और उनके ठगी करने के तरीके बदल रहे हैं. उससे सावधानी बरतना और सतर्क रहना बहुत जरूरी हो जाता है. साइबर क्रिमिनल्स लोगों की सेंसिटिव जानकारी के जरिए फ्रॉड करके उन्हें ठगी का शिकार बनाने की कोशिश कर रहे हैं.

आइए, यहां पर जानते हैं कि ITR रिफंड (Refund) मेसेज (Message) से जुड़े संभावित रिस्क क्या हो सकते हैं और उनसे किस तरह से बच सकते हैं.

ITR रिफंड (Refund) स्कैम का बढ़ता खतरा

हाल के वर्षों में, इनकम टैक्स रिफंड (Refund) से संबंधित फ़िशिंग स्कैम्स की मानो बाढ़ सी आ गई है. स्कैमर्स ITR रिफंड (Refund) पाने से जुड़ी राहत और संतुष्टि का फायदा उठाते हैं, टैक्सपेयर्स की भावनाओं का शोषण करते हैं और उन्हें ऐसे स्टेप उठाने के लिए प्रेरित करते हैं जो उनकी फाइनेंशियल सेक्योरिटी से समझौता करते हैं. ये घोटाले अलग-अलग तरीके के हो सकते हैं. जिनमें ईमेल, टेक्स्ट मेसेज (Message) और फ़ोन कॉल शामिल हैं, ये सभी आपको पर्सनल और फाइनेंशियल जानकारी देने के लिए बाध्य करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं.

रेड फ्लैग की पहचान करें

ITR रिफंड (Refund) घोटाले का शिकार होने से खुद को बचाने के लिए, सामान्य रेड फ्लैग्स के बारे में जानकारी रखना बहुत जरूरी होता है. यदि आपको निम्न में से कोई भी अनुभव हो तो सावधान रहें:

अनचाहे मेसेज (Message)

यदि आपको कोई अनचाहा मेसेज (Message), ईमेल या कॉल आए, जिसमें यह दावा किया गया हो कि आप ITR रिफंड (Refund) के लिए पात्र हैं, तो सावधानी बरतें. इसके लिए टैक्स आफिसर आम तौर पर आधिकारिक चैनलों से संवाद करते हैं. इस तरह से मेसेज (Message) भेजकर कभी नहीं करते हैं.

अर्जेंट रिक्वेस्ट (Urgent Request)

स्कैमर्स अक्सर अर्जेंसी की भावना पैदा करते हैं, आपके रिफंड (Refund) का क्लेम करने का अवसर समाप्त होने से पहले शीघ्र कार्रवाई करने के लिए आप पर दबाव डालते हैं. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट टैक्सपेयर्स से जानकारी देने में जल्दबाजी नहीं करता.

संदिग्ध लिंक

अनचाहे संदेशों में दिए गए किसी भी लिंक पर क्लिक करने से बचें, क्योंकि वे आपकी व्यक्तिगत जानकारी चुराने के लिए डिज़ाइन की गई दुर्भावनापूर्ण वेबसाइटों तक पहुंच सकते हैं.

सेंसिटिव जानकारी के लिए रिक्वेस्ट

इनकम टैक्स विभाग का अधिकारी कभी भी ईमेल या टेक्स्ट के माध्यम से सेंसिटिव जानकारी, जैसे आपका आधार कार्ड नंबर, बैंक अकाउंट डीटेल या पासवर्ड नहीं मांगेंगे.

खुद की सेक्योरिटी के लिए गाइडलाइंस

ITR रिफंड (Refund) घोटालों से खुद को बचाने के लिए, इनकम टैक्स डिपार्टमेंट द्वारा दिए गए इन गाइडलाइंस का पालन करें:

सोर्स को वेरीफाई करें

हमेशा आधिकारिक इनकम टैक्स विभाग की हेल्पलाइन से संपर्क करके या सीधे उनकी आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर संदेश की वैलिडिटी को वेरीफाई करें.

पर्सनल डीटेल्स साझा करने से बचें

कभी भी फ़ोन, ईमेल या टेक्स्ट पर सेंसिटिव जानकारी साझा न करें, जब तक कि आप रिसीवर की पहचान के बारे में सुनिश्चित न हों.

सेक्योर्ड प्लेटफ़ॉर्म का इस्तेमाल करें

यह सुनिश्चित करें कि आप टैक्स-संबंधित मामलों पर ऑनलाइन बातचीत करते समय सेक्योर्ड और रिलायबल प्लेटफ़ॉर्म का इस्तेमाल कर रहे हैं.

खुद को एजुकेट करें

टैक्सपेयर्स को टार्गेट करने के लिए साइबर क्रिमिनल्स द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले नए स्कैम्स और टेक्निक्स के बारे में सूचित रहें. ज्ञान ही आपका सबसे अच्छा बचाव है.

गौरतलब है कि ITR रिफंड (Refund) प्राप्त करने की संभावना वास्तव में एक पॉजिटिव मेसेज (Message) हो सकता है, ऐसे रिफंड (Refund) का क्लेम करने वाले अनचाहे मेसेज (Message) के प्रति सतर्क और संशय में रहना आवश्यक है. स्कैमर्स अक्सर व्यक्तियों के विश्वास और फाइनेंशियल कल्याण का फायदा उठाने के लिए इन तरीकों को अपनाते हैं. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट द्वारा दी गई गाइडलाइंस का पालन करके और संभावित रिस्क के बारे में सूचित रहकर, आप यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि आपकी फाइनेंशियल और पर्सनल जानकारी सेक्योर रहे.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now